Classical and Folk Dances of India


भारत अपनी समृद्ध संस्कृति और विरासत की वजह से सारी दुनिया में प्रसिद्द है| भारत में प्राचीन काल से नृत्य की समृद्ध और महत्वपूर्ण परंपरा रही है। खुदाई, शिलालेख, साहित्यिक स्रोत, विभिन्न समयों की मूर्तिकला और पेंटिंग्स, नृत्य का प्रमाण प्रदान करते हैं। 

हालांकि, आज भी लोकप्रिय विभिन्न नृत्यों के सटीक इतिहास और विकास का पता लगाना आसान नहीं है।


Classical Dances and Folk Dances of India
Classical Dances and Folk Dances of India


Origin of classical dances


Classical Dance का पहला संदर्भ वेदों से आता है जहां नृत्य और संगीत की जड़ें हैं। नृत्य का इतिहास महाकाव्य, कई पुराणों और संस्कृत  नाटकों और काव्य साहित्य में मिलता है।

खुदाई में मोहनजोदड़ो से एक कांस्य प्रतिमा और हड़प्पा से टूटे हुए धड़ (2500-1500 ई.पू. तक डेटिंग) मिले है। बाद में इसको नटराज मुद्रा (Dancing Shiva) के रूप में पहचाना गया है।

प्राचीन ग्रंथों में नृत्य का देवता नटराज शिव को माना गया है| जिन्होंने 108 विभिन्न तरह के नृत्यों का अविष्कार किया है| 

प्राचीन कल में नृत्य की दो प्रमुख शैलियां थी -

   - Tandava - भगवान शिव से सम्बन्धित, शक्ति और पुरुषत्व का प्रतीक| 

   - Lashya - देवी पार्वती से सम्बन्धित, भाव, रस और स्त्रीत्व का प्रतीक| 

मध्यकालीन भारत में देवदासियां नृत्य के लिए रखी जाती थी, जिसने भारत में इस्लाम के उदय के वक्त वेश्यावृत्ति का रूप ले लिया| 

जिसके कारण भारत  में उस वक़्त इस काम को अच्छा नहीं माना जाता था | हालाँकि आधुनिक भारत में सरकार के के प्रोत्साहन के कारण Indian Classical Dances को देश विदेश में काफी लोकप्रियता मिली है, जिसके बारे में हम आगे बात करेंगे| 


List of Different Dance Forms of India


Bharatnatyam -

दक्षिण भारत की नृत्य शैली है जिसमे कविता, नाटक,संगीत एवं नृत्य का समावेश होता है| प्रमुख केंद्र मद्रास और तंजौर है| 

भरतनाट्यम भारत का सबसे पुराना नृत्य रूप है

Kathak -

यह उत्तर भारत का कृष्ण द्वारा किया गया प्रमुख नटवारी नृत्य है| इसे कथवरी नटवरी नृत्य भी कहा जाता है| 

Mohiniyttam -

यह केरल की नृत्य शैली है जो भगवान विष्णु ने मोहिनी रूप में केरल के समुद्र तट पर किया था|  

Odissi -

ओडिशा में प्रचलित यह नृत्य शैली प्राचीनतम है तथा भगवान जगन्नाथ को समर्पित है| 

Kathakali -

यह केरल और मालाबार क्षेत्र की नृत्य शैली है| पुरुष प्रधान इस नृत्य में संगीत और अभिनय दोनों का समावेश होता है| 

इसमें दो तरह के पत्र होते है पाचा (नायक) और केटी (राक्षस)| 

Manipuri -

पूर्वी बंगाल और पूर्वोत्तर राज्यों की नृत्य शैली जिसे लाइहरोबा तथा रासनृत्य के नाम से भी जाना जाता है| 

Kuchipudi -

आंध्रप्रदेश का प्रसिद्ध नृत्य वैदिक एवं उपनिषदों में वर्णित धर्म का प्रसार करने वाला यह नृत्य भागवत और पुराण पर आधारित है| 



Folk Dances of India - भारत के लोक नृत्य



भारत के नृत्य रूपों में बहुत विविधता है। भारत में अलग-अलग शास्त्रीय और लोक नृत्य हैं जो एक राज्य से दूसरे राज्य में भिन्न हैं। इन शैलियों की उत्पत्ति के बारे में कोई नहीं जानता लेकिन इन शैलियों को हज़ारो सालो से सुरक्षित रखा गया है| 



Folk Dances of India State Wise





state
Folk Dances
Kuchipudi, Vilasini Natyam, Andhra Natyam, Bhamakalpam, Veeranatyam, Dappu, Tappeta Gullu, Lambadi, Dhimsa, Kolattam, Butta Bommalu.
Bihu, Bichhua, Natpuja, Maharas, Kaligopal, Bagurumba, Naga dance, Khel Gopal, Tabal Chongli, Canoe, Jhumura Hobjanai
Jata-Jatin, Bakho-Bakhain, Panwariya, Sama Chakwa, Bidesia.
Garba, Dandiya Ras, Tippani Juriun, Bhavai.
Jhumar, Phag, Daph, Dhamal, Loor, Gugga, Khor, Gagor.
Jhora, Jhali, Chharhi, Dhaman, Chhapeli, Mahasu, Nati, Dangi.
Rauf, Hikat, Mandjas, Kud Dandi Nach, Damali.
Yakshagan, Huttari, Suggi, Kunitha, Karga, Lambi.
Kathakali (Classical), Ottam Thulal, Mohiniattam, Kaikottikali.
Lavani, Nakata, Koli, Lezim, Gafa, Dahikala Dasavtar or Bohada.
Odissi (Classical), Savari, Ghumara, Painka, Munari, Chhau.
Kathi, Gambhira, Dhali, Jatra, Baul, Marasia, Mahal, Keertan.
Bhangra, Giddha, Daff, Dhaman, Bhand, Naqual.
Ghumar, Chakri, Ganagor, Jhulan Leela, Jhuma, Suisini, Ghapal, Kalbeliya.
Bharatanatyam, Kumi, Kolattam, Kavadi.
Nautanki, Raslila, Kajri, Jhora, Chappeli, Jaita.
Garhwali, Kumayuni, Kajari, Jhora, Raslila, Chappeli.
Tarangamel, Koli, Dekhni, Fugdi, Shigmo, Ghode, Modni, Samayi nrutya, Jagar, Ranmale, Gonph, Tonnya mell.
Jawara, Matki, Aada, Khada Nach, Phulpati, Grida Dance, Selalarki, Selabhadoni, Maanch.
Gaur Maria, Panthi, Raut Nacha, Pandwani, Vedamati, Kapalik, Bharthari Charit, Chandaini.
Alkap, Karma Munda, Agni, Jhumar, Janani Jhumar, Mardana Jhumar, Paika, Phagua,Hunta Dance, Mundari Dance, Sarhul, Barao, Jhitka, Danga, Domkach, Ghora Naach.
Buiya, Chalo, Wancho, Pasi Kongki, Ponung, Popir, Bardo Chham.
Dol Cholam, Thang-Ta, Lai Haraoba, Pung Cholom, Khamba Thaibi, Nupa Dance, Raslila, Khubak Ishei, Lhou  Sha.
Ka Shad Suk Mynsiem, Nongkrem, Laho.
Cheraw Dance, Khuallam, Chailam, Sawlakin, Chawnglaizawn, Zangtalam, Par Lam, Sarlamkai/Solakia, Tlanglam.
Rangma, Bamboo Dance, Zeliang, Nsuirolians, Gethinglim, Temangnetin, Hetaleulee.
Hojagiri.
Sikkim
Chu Faat Dance, Sikmari, Singhi Chaam or the Snow Lion Dance, Yak Chaam, Denzong Gnenha, Tashi Yangku Dance, Khukuri Naach, Chutkey Naach, Maruni Dance.
Lava, Kolkali, Parichakali.

  Read More at GK Mirror

Post a Comment

If you have any doubt please let me know.

Previous Post Next Post