Round Table Conferences - Golmej Sammelan in Hindi - गोलमेज सम्मलेन (1931-1932)

प्रथम गोलमेज सम्मलेन (First Round Table Conferences In Hindi)

प्रथम गोलमेज सम्मलेन (Golmej Sammelan) 12 नवंबर 1930 से 13 जनवरी 1931 तक लंदन में आयोजित किया था| इसमें पहली बार ब्रिटिश शासकों द्वारा भारतीयों को भारतीयों को बराबरी का दर्जा दिया गया| इसकी अध्यक्षता ब्रिटिश PM रैम्जे मैक्डोनॉल्ड ने किया था| 
इस सम्मलेन में कांग्रेस ने हिस्सा नहीं लिया था| इस सम्मलेन में हिस्सा लेने वाले नेताओं में तेजबहदुर सप्रू, मुहम्मद अली, भीमराव अम्बेडकर आदि थे| 

द्वितीय गोलमेज सम्मलेन (Second Round Table Conferences In Hindi) (7 सितम्बर 1931 से 1 दिसंबर 1931)

दूसरे गोलमेज सम्मलेन (Golmej Sammelan) के समय लार्ड वेलिंगटन भारत का वॉयसराय था| इस सम्मेलन में कांग्रेस की तरफ से गाँधी जी ने भाग लिया था| इस सम्मलेन में साम्प्रदायिक समस्या पर विवाद हुआ था| भीमराव आंबेडकर अलग निर्वाचन पर अड़े हुए थे| जिसे गाँधी जी ने अस्वीकार कर दिया था|

द्वितीय गोलमेज सम्मलेन में एनीबेसेन्ट और मदन मोहन मालवीय ने भी भाग लिया था| गाँधी जी ने वॉयसराय वेलिंग्टन से मिलना चाहा पर उसने मिलने से मना कर दिया| अतः गाँधी जी ने दूसरा सविनय अवज्ञा आंदोलन (civil disobedient movement) शुरू कर दिया| 

तृतीय गोलमेज सम्मलेन (Third Round Table Conferences In Hindi) (1932)

नवंबर 1932 में तीसरा गोलमेज (Golmej Sammelan) सम्मलेन आरम्भ हुआ| इसमें कांग्रेस ने भाग नहीं लिया| 

इस सम्मलेन में भारत सरकार अधिनियम 1935 हेतु ठोस योजना को  रूप प्रदान करने का प्रारूप पेश किया गया| 

FAQs

Q.1: Who attended all three round table conferences?
Ans: B. R. Ambedkar attended all three round table conferences.

Post a Comment

If you have any doubt please let me know.

Previous Post Next Post