2020 नोबेल पुरस्कार विजेताओं की सम्पूर्ण लिस्ट - Complete List of Nobel Prize Winners 2020 in Hindi

 

Complete List of 2020 Nobel Prize Winners in Hindi

हमने यह पर वर्ष 2020 के सभी नोबेल पुरस्कार विजेताओं की सूची सछिप्त में प्रकशित की है. हाल ही में स्टॉकहोम में ‘स्वीडिश अकैडमी ऑफ साइंसेज’ के पैनल ने वर्ष 2020 के सभी नोबेल पुरस्कार विजेताओं की घोषणा की है. नोबेल पुरस्कार को विश्व का सबसे प्रतिष्ठित अवार्ड माना जाता है. यह पुरस्कार स्वीडन के वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबेल की याद में वर्ष 1901 से प्रति वर्ष नोबेल फाउंडेशन द्वारा असाधारण कार्य करने वाले लोगों और संस्थाओं को दिया जाता है. घोषित किये गए ये सभी पुरस्कार अल्फ्रेड नोबेल की पुण्यतिथि 10 दिसंबर को स्टॉकहोम में दिए जाएंगे| 

 

नोबेल पुरस्कार भौतिकी, साहित्य, चिकित्सा, केमिस्ट्री, अर्थशास्त्र और शांति के क्षेत्र में दिए जातें हैं|

 भौतिकी का नोबेल पुरस्कार 2020: रोजर पेनरोज, रीनहार्ड गेंजेल और एंड्रिया गेज

वर्ष 2020 का भौतिकी (फिजिक्स) का नोबल पुरस्कार रोजर पेनरोज, रीनहार्ड गेंजेल और एंड्रिया गेज को देने की घोषणा की गयी है. यह पुरस्कार अल्बर्ट आइंस्टीन के जनरल थ्योरी ऑफ रिलेटिविटी के बारे में पता करने के लिए मैथेमेटिकल मेथड तैयार करने के लिए रोजर पेनरोज को देने की घोषणा की गयी है जबकि संयुक्त रूप से ब्लैक होल और मिल्की वे के रहस्यों को समझाने के लिए यह पुरस्कार रीनहार्ड गेंजेल और एंड्रिया गेज को देने की घोषणा की गयी है. वर्ष 1901 से लेकर अब तक 113 बार 212 लोगों फिजिक्स में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया जा चूका है. जबकि जॉन बार्डीन को 2 बार इस पुरस्कार से सम्मानित किया जा चूका है. साथ ही 1 बार ट्रांजिस्टर और दूसरी बार सुपर कंडक्टिविटी से जुड़े कामों के लिए इस पुरस्कार से सम्मानित किया जा चूका है| 

साहित्य का नोबेल पुरस्कार 2020: अमेरिकी कवियित्री लुइस ग्लूक

स्वीडिश नोबेल कमेटी ने वर्ष 2020 का साहित्य का नोबेल पुरस्कार से अमेरिकी कवियित्री लुइस ग्लूक को सम्मानित करने की घोषणा की है. वर्ष 1968 में लुइस की पहली किताब फर्स्टबोर्न प्रकाशित हुई थी जिसके बाद वे अमेरिका की जानी-मानी समकालीन साहित्यकार बनी. अब तक उनके कविताओं के 12 संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं जिसमे उन्होंने निबंध भी लिखे है. वर्ष 1943 में न्यूयॉर्क में जन्मी अमेरिकी कवियित्री लुइस ग्लूक कैंब्रिज (मैसाच्युसेट्स) में रहती हैं, साथ ही वे येल यूनिवर्सिटी में अंग्रेजी की प्रोफेसर भी है| 

चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार 2020: हार्वे आल्टर, माइकल ह्यूटन और चार्ल्स राइस

वर्ष 2020 का चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार संयुक्त रूप से तीन वैज्ञानिकों हार्वे जे आल्टर, माइकल ह्यूटन और चार्ल्स एम राइस को देने की घोषणा की गयी है. जिसमे आल्टर और राइस अमेरिकी हैं, जबकि ह्यूटन यूके से हैं. इन तीनो वैज्ञानिकों को यह चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार हैपेटाइटिस सी वायरस की खोज के लिए दिया गया है. इस चिकित्सा के नोबल पुरस्कार का चयन स्वीडन की कैरोलिंस्का इंस्टीट्यूट की 5 सदस्यीय कमेटी करती है. “हैपेटाइटिस” दो ग्रीक शब्दों लिवर और जलन (इन्फ्लेमेशन) से मिलकर बना है. यह हैपेटाइटिस वायरल इन्फेक्शन से होता है अधिक शराब पीना, पर्यावरण में प्रदूषण का ज्यादा स्तर भी हैपेटाइटिस के कारण होते है| 

केमिस्ट्री नोबेल पुरस्कार 2020: इमैनुएल शार्पेंचीयर और जेनिफर ए. डोडना

वर्ष 2020 का केमिस्ट्री यानी रसायन विज्ञान का नोबेल पुरस्कार रॉयल एकेडमी ऑफ साइंसेज, स्टॉकहोम, स्वीडन द्वारा इन दोनों को देने की घोषणा की गयी है. इमैनुएल चार्पियर और जेनिफर ए. डोडना ने “कैंची” के रूप में जाने जाने वाला “जीनोन एडिटिंग को विकसित किया है. आज के दौर में इस तकनीक का व्यावहारिक रूप से विस्तृत उपयोग हो रहा है. इस “जीनोन एडिटिंग से वैज्ञानिक और शोध करने वाले जानवरों, पौधों और सूक्ष्मजीवों के डीएनए को अत्यधिक उच्च परिशुद्धता के साथ बदल सकते हैं. साथ ही यह तकनीक नए कैंसर उपचारों और कई बीमारियों के इलाज में सहायक हो सकती है| 

अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार 2020: पॉल आर मिलग्रोम और रॉबर्ट बी विल्सन

वर्ष 2020 का अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार रॉयल एकेडमी ऑफ साइंसेज, स्टॉकहोम, स्वीडन द्वारा दोनों अर्थशास्त्री को देने की घोषणा की गयी है. पॉल आर मिलग्रोम और रॉबर्ट बी विल्सन को यह पुरस्कार नीलामी के सिद्धांत और नए नीलामी प्रारूपों के आविष्कारों में सुधार के लिए देने योगदान देने के लिए सम्मानित करने की घोषणा की गई है. दोनों अर्थशास्त्री ने सामानों और सेवाओं के लिए नए नीलामी स्वरूपों को डिजाइन करने के लिए अपनी इनसाइट का प्रयोग किया है| 

शांति का नोबेल पुरस्कार 2020: यूएन वर्ल्ड फ़ूड प्रोग्राम

वर्ष 2020 का शांति के नोबेल पुरस्कार से यूएन वर्ल्ड फ़ूड प्रोग्राम को सम्मानित करने की घोषणा की गयी है. यूएन वर्ल्ड फ़ूड प्रोग्राम के अनुसार, विश्व के 88 देशों में वो सालाना क़रीब नौ करोड़ 70 लाख लोगों की मदद करते हैं. इस यूएन वर्ल्ड फ़ूड प्रोग्राम को यह नोबल पुरस्कार विश्वभर में भुखमरी से लड़ाई करने के लिए दिया गया है. इस यूएन वर्ल्ड फ़ूड प्रोग्राम ने भूख को युद्ध और संघर्ष के हथियार के रूप में इस्तेमाल करने से रोकने के लिए की जा रहीं कोशिशों में वर्ल्ड फ़ूड प्रोग्राम ने अग्रणी भूमिका निभाई है. इस पुरस्कार को जीतने वाली यूएन वर्ल्ड फ़ूड प्रोग्राम को पुरस्कार की ईनाम राशि 11 लाख डॉलर दिया जायेगा. इस वर्ष इस पुरस्कार के लिए कोई 211 व्यक्तियों और 107 संगठनों को नामित किया गया था| 

Post a Comment

If you have any doubt please let me know.

Previous Post Next Post